जीवन की ढलने लगी साँझ - अटल बिहारी वाजपेयी




जीवन की ढलने लगी सांझ
उमर घट गई
डगर कट गई
जीवन की ढलने लगी सांझ।



बदले हैं अर्थ
शब्द हुए व्यर्थ
शान्ति बिना खुशियाँ हैं बांझ।

सपनों में मीत
बिखरा संगीत
ठिठक रहे पांव और झिझक रही झांझ।
जीवन की ढलने लगी सांझ।


Jeevan ki Dhalne Lagi Saanjh poem by Atal Bihari Vajpayee





Share on Google Plus

About Anil Dwivedi

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! अपनी प्रतिक्रियाएँ हमें बेझिझक दें !!