हमारी सनातन रीति कहती है || What our Eternal practices says...



सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात् , न ब्रूयात् सत्यमप्रियं।
प्रियं च नानृतं ब्रूयात् , एष धर्मः सनातनः॥



भावार्थ :-
सत्य बोलें, प्रिय बोलें, पर अप्रिय सत्य न बोलें
और प्रिय असत्य न बोलें, ऐसी सनातन रीति है ॥


Translation:-
Speak truth, speak nice things sweetly.
Don't  speak bitter truth. Don't speak incorrect things even nicely.
This is eternal practice.



Share on Google Plus

About Anil Dwivedi

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! अपनी प्रतिक्रियाएँ हमें बेझिझक दें !!