बुद्धि को कमल की पंखुड़ियो की तरह कैसे बढ़ाये...? सुभाषित संस्कृत श्लोक 14

How to expands intellect as the lotus petals expands


यः पठति लिखति पश्यति, परिपृच्छति पंडितान् उपाश्रयति।तस्य दिवाकरकिरणैः नलिनी, दलं इव विस्तारिता बुद्धिः॥




सुभाषित संस्कृत श्लोक 06 का भावार्थ:


जो व्यक्ति पढ़ता है, लिखता है, देखता है, प्रश्न पूछता है और बुद्धिमानों का आश्रय लेता है, उसकी बुद्धि उसी प्रकार बढ़ती है जैसे कि सूर्य किरणों से कमल की पंखुड़ियाँ बढ़ती है



English Translation Of Subhashitani Shloka #06-

One who reads, writes, sees, inquires, lives in the company of learned, his intellect expands as the lotus petals expands due to the rays of sun.




यदि आपके पास हिंदी में कोई लेख, प्रेरणादायक कहानी या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया email करें. हमारी Id है: er.anildwivedi@gmail.comanil@lets-inspire.com.  हम उसे आपके नाम साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. धन्यवाद !!
Share on Google Plus

About Anil Dwivedi

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! अपनी प्रतिक्रियाएँ हमें बेझिझक दें !!